कान फिल्म महोत्सव की शुरुआत: 11 सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने रेड कार्पेट की बढ़ाई शोभा

कान (फ्रांस):स साल कान फिल्म महोत्सव के 75 वें संस्करण की शुरुआत रूस के हमले का सामना कर रहे यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के एक वीडियो संदेश के साथ हुई। यह 28 मई तक चलेगा। अपने संदेश में जेलेंस्की ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर परोक्ष रूप से हमला किया।
गौरतलब है कि वर्ष 2020 का कान फिल्म महोत्सव रद्द कर दिया गया था जबकि पिछले साल यह बहुत लघु स्तर पर आयोजित हुआ था। कान फिल्म फेस्टिवल की शुरुआत करते हुए, जेलेंस्की ने भविष्य के फिल्म निर्माताओं से फासीवाद पर व्यंग्य का जश्न मनाने और चुप न रहने का आग्रह किया। साथ ही एडॉल्फ हिटलर पर चार्ली चैपलिन के व्यंग्य की सराहना की। महोत्सव के उद्घाटन समारोह के दौरान जेलेंस्की ने सिनेमा और वास्तविकता के बीच संबंध के बारे में विस्तार से बात की। उन्होंने फ्रांसिस फोर्ड कोपोला की ‘एपोकैलिप्स नाउ’ और चार्ली चैपलिन की ‘द ग्रेट डिक्टेटर’ जैसी फिल्मों को अपने लिए प्रेरणा बताया। जेलेंस्की ने "द ग्रेट डिक्टेटर" में चैपलिन के अंतिम भाषण को उद्धृत किया, जो 1940 में द्वितीय विश्व युद्ध के शुरुआती दिनों में जारी किया गया था और कहा- "पुरुषों की नफरत समाप्त हो जाएगी, और तानाशाह मर जाएंगे, और वह सत्ता जो उन्होंने लोगों से ली थी। लोगों के पास लौट आएंगे।" उन्होंने अनुरोध किया कि सिनेमा हमेशा "आजादी के पक्ष में" होना चाहिए।
कान फिल्म महोत्सव में भारतीय पवेलियन का उद्घाटन बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक वीडियो संदेश के साथ किया जाएगा। शुभारंभ के अवसर पर सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर सहित कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहेंगे। भारतीय पवेलियन के शुभारंभ पर अनुराग ठाकुर के नेतृत्व वाले 11 सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल के भी मौजूद रहने की उम्मीद है। इससे पहले पारंपरिक परिधान पहने सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर के नेतृत्व वाले 11 सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने कान फिल्म समारोह के उद्घाटन के मौके पर मंगलवार को ‘रेड कार्पेट’ की शोभा बढ़ाई। अनुराग ठाकुर, अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी, आर माधवन, फिल्म निर्माता शेखर कपूर, गीतकार एवं कवि प्रसून जोशी, वाणी टी टीकू और संगीतकार रिकी केज कान्सफिल्म फेस्टिवल 2022 के पहले दिन रेड कार्पेट पर उतरे। ‘मार्चे डू फिल्म्स’ या कान फिल्म बाजार में भारत को ‘कंट्री ऑफ ऑनर’ घोषित किया गया है।
कान फिल्म फेस्टीवल के पहले दिन कंटेम्पररी (समसामयिक) लोक संगीत कलाकार मामे खान और अभिनेता-राजनेता कमल हासन भी रेड कार्पेट पर उतरे। अभिनेत्री तमन्ना भाटिया ने भी कान में डेब्यू किया। तमन्ना भाटिया ने कहा, "मैं इस फेस्टीवल को लेकर बहुत उत्साहित हूं, यहां होने मेरे लिए एक सम्मान जैसा है। मैं वास्तव में इस कार्यक्रम का इंतजार कर रही हूं।" फिल्म निर्माता शेखर कपूर भी 75वें कान फिल्म समारोह में भाग ले रहे हैं। यहां ‘मार्चे डू फिल्म्स' में भारत को 'कंट्री ऑफ ऑनर' घोषित किया गया है। शेखर कपूर ने कहा कि अगले कुछ वर्षों में भारत दुनिया में "सबसे बड़ा और सबसे विशाल मीडिया मनोरंजन मंच बन जाएगा। उन्होंने कान फिल्म फेस्टिवल पर कहा, 'हम केवल अतीत का ही नहीं, बल्कि भविष्य का जश्न मना रहे हैं। जिस तरह से भारत ने डिजिटलीकरण किया है और जिस तरह भारतीय युवा व कंटेंट क्रिएटर दुनिया को जीतने के लिए तैयार हैं, हम उसका जश्न मना रहे हैं।'
केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के अध्यक्ष और गीतकार-कवि प्रसून जोशी कान फिल्म समारोह  2022 में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा हैं। उन्होंने कहा कि भारत में कहानियों की भरमार है। वह "भारत को कहानीकारों का देश" मानते हैं। उन्होंने कहा, "भारत हमेशा कान में आया है और हम सभी ने यहां बहुत कुछ सीखा है। कान के दो हिस्से हैं- एक बाजार है और दूसरी वह जगह है जहां फिल्मों का प्रदर्शन किया जाता है। मुझे लगता है कि दोनों हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण रहे हैं और यह एक विशेष वर्ष है क्योंकि भारत को इस साल ‘कंट्री ऑफ ऑनर’ घोषित किया गया है। सरकार और सभी फिल्म निर्माताओं ने मिलकर इसे काफी गंभीरता से लिया है। हम उद्योग स्तर पर या विभिन्न निकायों के बीच साझेदारी के स्तर पर बहुत उपयोगी चर्चा करने के लिए उत्सुक हैं।" ईवा लोंगोरिया, जूलियने मूर, बेरेनिस बेजो और ‘नो टाइम टू डाई’ की अभिनेत्री लशाना लिंच सहित कई सितारे मंगलवार को 75वें कान फिल्म महोत्सव के उद्घाटन और माइकल हेजानाविसियस की फिल्म ‘फाइनल कट’ के प्रीमियर के लिए कान के रेड कार्पेट पर नजर आए।
You May Also Like