प्रसन्न रहने से होता है बुद्धि का विकास: Saint Asang Saheb

  • बोड़ा नगर के आशाराम मैदान पर राष्ट्रीय संत असंग साहेब ने दिए प्रवचन 
राजगढ़। राजगढ जिले के नगर बोड़ा में राष्ट्रीय संत असंग साहेब के प्रवचन का आयोजन नगर के समस्त नगर वासियों के सहयोग से तीन दिवसीय प्रवचन का आयोजन किया जा रहा है। आपको बता दें की राष्ट्रीय संत का प्रथम दिन सभी भक्तों ने निवास स्थान से लेकर बोड़ा के प्रमुख मार्गो से विशाल जुलूश निकाला, जिसमे बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया। उसके बाद संत असंग साहेब कथा पांडाल पहुंचे, राष्ट्रीय संत असंग साहेब के प्रवचन से पहले बोड़ा नगर के प्रमुख मार्गो से  बैंड बाजों के साथ एक जुलूस निकला जो कथा स्थल तक पहुंचा। यहां संत असंग साहेब ने कहा कि प्रसन्न रहने से बुद्धि का विकास होता है। ज्यादा सोने व ज्यादा गुस्सा करने से बुद्धि घट जाती है। रोज ठहाका मारकर हंसना चाहिए। उन्होंने कहा कि राम भगवान की दरबार में भी एक मंत्रा थी जो नहीं सुधरी। तनाव से दूर रहना चाहिए। तनाव से सुंदरता घट जाती है थोड़ा व्यायाम भी रोज करना चाहिए, पति-पत्नी को टेंशन मुक्त  होकर दोस्त की तरह रहना चाहिए। ङ्क्षचता छोडकर संतो के संग रहने से बुद्धि का विकास होता है। कभी ङ्क्षनदा नहीं करनी चाहिए माता-पिता के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए। संत ने कहा कि जो बिना अर्थ के बिना जरूरत के अपना घर छोडकर फालतू नहीं जाता है। विदुर जी कहते है उसके घर में सुख का निवास रहता है। बिना जरूरत के घूमने कहीं मत जाओ। उन्होंने कहा कि महिलाओं का तब तक विवाह नहीं होता, जब तक तुम्हारा मायका तुम्हारा घर है और विवाह हो गया तब तुम्हारा घर तुम्हारा ससुराल हो जाता है। बार-बार ससुराल को छोडकर मायके के चक्कर मत काटना नहीं तो घर तबाह हो जाएगा। असंग देव जी के प्रवचन सुनने बोड़ा नगर के साथ राजगढ़ जिले के कई गांवों से महिला पुरुष हजारों की संख्या में पहुंचे। आपको बता दें की राष्ट्रीय संत श्री असंग देव महाराज जी का आगमन प्रथम दिन के कार्यक्रम पर हुआ हजारों भक्तों ने भव्य स्वागत करके एवं महा मंगला आरती करके पुण्य प्राप्त किया। इस आयोजन में मुख्य आयोजक सुमेर ङ्क्षसह राजपूत एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती सुनीता ङ्क्षसह राजपुत, बजरंग फ़ोटो स्टूडियो के संचालक बंटी पुष्पद, राहुल मेवाड़े के साथ बोड़ा पुलिस थाना प्रभारी संदीप ङ्क्षसह मीणा की टीम सुरक्षा के तोर पर विशेष सेवा कर रहे हैं, जहो जिलेभर से हजारों की संख्या में श्रद्धालु कथा सत्संग श्रवण करने पहुंचे। 
- जगदीश धाकड़ 

You May Also Like