Gwalior के सागरताल के सामने पुराने खण्डर से निकला अति प्राचीन शिवलिंग

ग्वालियर के सागरताल के सामने पुराने खण्डर से अति प्राचीन शिवलिंग निकलने की जानकारी लगने पर वहां शिव भक्तों का तांता लग गया, देखते ही देखते शहर भर के लोग वहां पहुंचने लगे और शिवलिंग की पूजा अर्चना शुरू हो गई। बहोड़ापुर थाना के सागर ताल के सामने से एक युवक गुजर रहा था उसकी नजर वहां एक पुराने खंडहर पर पड़ी तो उसे शिवङ्क्षलग दबे होने का आभास हुआ। जब उसने हाथ से उसे साफ किया तो वह शिवलिंग नजर आया, उसने अपने दोस्तों को बुलाकर खंडहर की सफाई की और शिवलिंग को बाहर निकाला। जानकारी लगने पर आसपास के लोग भी इकठ्ठा होने लगे। पास के ही एक मंदिर के पुजारी भी मौके पर पहुंचे और आरती कर पूजा अर्चना की, देखते ही देखते खंडहर से दबे हुए प्राचीन शिवलिंग की जानकारी शहर भर में फैली तो वहां शहर के अलग-अलग कोनों से लोग पहुंचना शुरू  हो गए। कोई भगवान भोले को फूल चढ़ाने लगा तो कोई अभिषेक करने लगा। एक पुजारी ने लोगों को बताया कि यह मंदिर बीते साल सडक़ चौड़ीकरण के दौरान तोड़ा गया था उस दौरान शिवलिंग पत्थरों के बीच दब गया जिसे किसी ने हटाया नहीं, कई बार प्रशासन से कहा गया कि इस अति प्राचीन शिवलिंग को व्यवस्थित रखकर मंदिर का जीर्णोद्धार किया जाए लेकिन प्रशासन ने कोई सुध नहीं ली। अब युवाओ ने शिवलिंग को बाहर निकलकर स्थापित कर दिया है। शिवलिंग को लेकर कहा जाता है कि यह 200 साल से अधिक पुराना है यही कारण है कि लोगों की आस्था उमड़ी है। लोगों की मांग है कि मंदिर की पुन: स्थापना कर भगवान भोले की पूजा-अर्चना शुरू  की जाएगी ।

You May Also Like