CM राईज स्कूल के प्राचार्य की अनूठी पहल, शिक्षकों को बना रहे एक दिन का प्राचार्य

  • शैक्षणिक स्तर उठाने में मिल रहा लाभ।
  • छात्र भी हो रहे लाभान्वित।
भिंड जिले के मेहगांव में संचालित सीएम राइज स्कूल में प्रिंसिपल द्वारा शिक्षकों का मनोबल बढ़ाने के लिए एक अभिनव पहल की शुरुआत की गई है। यहां पर शिक्षकों को भी प्राचार्य का कार्य अनुभव कराने के लिए उन्हें एक दिन के लिए प्राचार्य बनाया जा रहा है और वह सारे कार्य जो एक प्राचार्य करता है वह शिक्षक से कराए जा रहे हैं। जबकि प्राचार्य आम शिक्षक की तरह स्कूल में क्लास ले रहे हैं। इसके साथ ही बच्चों को विज्ञान के जादू से भी परिचित कराया जा रहा है। दरअसल पूरे मध्यप्रदेश की तरह भिंड जिले में भी सीएम राइज स्कूल खोले गए हैं। यहां के मेहगांव में उत्कृष्ट विद्यालय को सीएम राइज स्कूल में तब्दील किया गया है, जिसमें विषय विशेषज्ञ शिक्षकों की नियुक्तियां की गई हैं। कुल 43 शिक्षक इस स्कूल में मौजूद हैं। लेकिन यहां पर प्राचार्य आरडी मित्तल ने एक नई पहल की शुरुआत की है। उन्होंने लॉटरी सिस्टम के द्वारा 43 शिक्षकों में से प्रतिदिन एक शिक्षक को प्राचार्य बनाए जाने की व्यवस्था शुरू की है। उनका कहना है कि कई बार निर्देशित किए जाने के बाद शिक्षकों को यह लगता था कि उनके ऊपर प्राचार्य द्वारा आदेश थोपा जा रहा है जिससे वह पूरे मनोयोग से नहीं पढ़ा पाते। ऐसे में उनका मनोबल भी गिरता था। इसी बात को विचार करते हुए उन्होंने शिक्षक को भी प्राचार्य के कार्य का अनुभव कराने के लिए लॉटरी सिस्टम के द्वारा एक शिक्षक को एक दिन के लिए प्रिंसिपल बनाने की व्यवस्था शुरू की है। जिसमें जितने भी शिक्षक हैं सभी के नाम की पर्चियां एक बॉक्स में डाली जाती हैं और छात्र द्वारा एक पर्ची को निकाला जाता है। जिसके नाम की पर्ची निकलेगी वही उस दिन का प्रिंसिपल रहेगा और प्रिंसिपल द्वारा जो कार्य किए जाते हैं वह संपादित करेगा। जबकि प्रिंसिपल आम शिक्षक की तरह क्लास लेगा। 
योजना के पहले दिन लॉटरी सिस्टम के द्वारा पर्ची निकाली गई तो शिक्षक रामनिवास शर्मा को प्रिंसिपल बनने का मौका मिला। उन्हें जब निर्देश देने के लिए बोला गया तो वह सकपका गए ऐसे में पहला निर्देश उन्होंने प्रिंसिपल को ही दिया कि वह प्राचार्य का कार्य करने में उनका सहयोग करते हुए क्लास लेने के लिए शिक्षकों का रोस्टर तैयार करें, जिसका पालन भी किया गया। ऐसे में रामनिवास शर्मा ने प्रिंसीपल ऑफिस में बैठकर और पूरे स्कूल में घूम कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। जबकि वास्तविक प्राचार्य आरडी मित्तल ने रामनिवास शर्मा के निर्देश पर भूगोल विषय की क्लास ली। 
इसके साथ ही इस स्कूल में बच्चों को विज्ञान के चमत्कार से भी अवगत कराया जा रहा है। यहां पर बताया जा रहा है कि किस प्रकार से विज्ञान के चमत्कारों का लाभ उठाते हुए कई लोग समाज में अंधविश्वास को बढ़ाते हैं। जैसे एक केमिकल से अगर लिखाई की जाती है तो वह कागज पर दिखाई नहीं देती, लेकिन जैसे ही उस पर पानी का छिड़काव किया जाता है तो वह दिखने लगती है। इसी प्रकार से पानी में भी किस प्रकार से कोई चीज जल सकती है उसका भी प्रयोग बच्चों को दिखाया गया। इसी प्रकार से खेल खेल में बच्चों को पढ़ाने की कोशिश की जा रही है। बच्चे भी प्रिंसिपल की अभिनव पहल देखकर खुश हैं और उनका कहना है कि इससे पढ़ाई में भी काफी सहयोग मिल रहा है।
You May Also Like