पहला सुख निरोगी काया: कटियार

ग्वालियर। हमारे ऋषि-मुनि कह गए हैं, 'पहला सुख निरोगी काया... यदि काया अर्थात शरीर रोगी है तो आप धन कैसे कमाएंगे। यदि पहले से ही अपार धन है तो वह किसी काम का नहीं। अगर आपका शरीर स्वस्थ और सेहतमंद है तभी तो आप जीवन का आनंद ले सकेंगे। घुमना-फिरना, हंसी-मजाक, पूजा-प्रार्थना, मनोरंजन आदि सभी कार्य अच्छी सेहत वाला व्यक्ति ही कर सकता है और अच्छी सेहत के लिए नियमित योगाभ्यास जरूरी है lउपरोक्त उदगार जिला शिक्षा अधिकारी अजय कटियार ने शासकीय जिला योग प्रशिक्षण में आयोजित आदर्श योग क्लब प्रभारियों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम में व्यक्त किए। 
इस  अवसर पर भोपाल के योग प्रशिक्षक देवीदयाल भारती ने कहा किप्रदेश के प्रत्येक नागरिक को स्वस्थ जीवन शैली एवं निरोग जीवन जीने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश योग आयोग का गठन किया गया है. योग आयोग  योग संबंधी जागरूकता, प्रचार प्रसार एवं योग शिक्षा को बढ़ावा देगा, ताकि बाल्यावस्था से आजीवन योग जीवन का हिस्सा बन सके।  जिला योग प्रभारी दिनेश चाकणकर ने कहा कि ग्वालियर जिले में योग क्लब के माध्यम से योग शिक्षा के व्यापक प्रचार प्रसार के साथ साथ पर्यावरण संरक्षण पर भी ध्यान दिया जा रहा है। और योग क्लब के माध्यम से जिले में अब तक 6000  से अधिक पौधे रोपे जा चुके हैं। इस अवसर पर अतिथियों द्वारा सभी आदर्श योग  क्लब प्रभारियों को टी शर्ट और योगा मैट प्रदान की गई। अतिथियों का स्वागत जिला संस्कृत प्रभारी नीरज शर्मा, तथा विकासखंड योग प्रभारी जयदयाल शर्मा ने किया। इस अवसर पर विकासखंड योग प्रभारी अरूण शर्मा, हेमंत त्रिवेदी, डॉक्टर लोकेंद्र सिंह कामर तथा राजनारायण शर्मा भी उपस्थित थे।
You May Also Like