सिंधिया की पावर 6 महीने भी नहीं चल पाई, मौका मिलते ही IG अनिल शर्मा आउट

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जनवरी 2022 में आईजी के पद पर अनिल शर्मा की नियुक्ति करवाकर अपनी पावर का प्रदर्शन किया था, लेकिन उनकी पावर 6 महीने भी नहीं चल पाई। पहला मौका मिला और शर्मा को आउट कर दिया गया। 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुना की घटना के बाद हाई लेवल मीटिंग में भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठ अधिकारी अनिल कुमार शर्मा को ग्वालियर आईजी के पद से हटाकर दूसरे वरिष्ठ आईपीएस डी श्रीनिवास शर्मा को पदस्थ कर दिया। बताया गया कि यह कार्रवाई गुना की घटना के कारण हुई। अनिल शर्मा पर आरोप है कि उन्होंने मामले को गंभीरता से नहीं लिया और घटनास्थल पर देरी से पहुंचे, जबकि चर्चाएं कुछ और है। 
यहां याद करना जरूरी है कि जनवरी 2022 में डी श्रीनिवास वर्मा को ग्वालियर आईजी के पद पर पदस्थ करके भेजा गया था, परंतु ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पदभार ग्रहण करने नहीं दिया। जबरदस्त पॉलीटिकल प्रेशर क्रिएट किया गया और अंततः सिंधिया की पसंद के हिसाब से अनिल कुमार शर्मा को ग्वालियर आईजी बनाया गया।
You May Also Like