आसमान पर पहुंची खुदरा महंगाई दर, तोड़ा रिकार्ड

खुदरा मुद्रास्फीति जो कि सीधे मध्यम और निम्न-मध्यम आय वाले लोगों को प्रभावित करती है. साथ ही गरीब लोगों को बेहद मुश्किलें होती हैं. महंगाई दर अचानक आठ साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है. पिछले साल के अंत में ओमिक्रॉन संस्करण के प्रकोप के कारण आपूर्ति में व्यवधान सहित कई कारणों की वजह से और इस साल रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण इसमें और इजाफा हुआ है. इस साल मार्च में खुदरा मुद्रास्फीति पहले से ही 6.97% के उच्च स्तर पर थी. जिसने भारतीय रिजर्व बैंक को अन्य उपायों की घोषणा करते हुए बेंचमार्क बैंक ब्याज दरों को बढ़ाने के लिए मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की एक अनिर्धारित बैठक बुलाने के लिए प्रेरित किया.
खाद्य मुद्रास्फीति में निरंतर वृद्धि नीति निर्माताओं के लिए चिंता का विषय है. उदाहरण के लिए अनाज और उत्पादों में मुद्रास्फीति अप्रैल में 21 महीने के उच्चतम स्तर पर थी. महीने में जहां सब्जियों के दाम बढ़कर 17 महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंच गए. वहीं मसालों ने भी 17 महीने के उच्च स्तर को दर्ज किया. उपभोक्ता खाद्य मूल्य मुद्रास्फीति बढ़कर 8.38% हो गई, जो कि 17 महीने का उच्च स्तर भी है. इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च के प्रधान अर्थशास्त्री सुनील सिन्हा का कहना है कि ईंधन की ऊंची कीमतों का दूसरे दौर में असर अन्य वस्तुओं और सेवाओं पर भी दिखने लगा है. नतीजतन सिन्हा कहते हैं विविध वस्तुओं और सेवाओं के लिए मुद्रास्फीति 115 महीने के उच्च स्तर पर बढ़कर 8.03% हो गई. यह लगातार 23वां महीना है जब देश ने इस सेगमेंट में 6% से अधिक मुद्रास्फीति का अनुभव किया है. इस साल अप्रैल में तेल और वसा की कीमतें पिछले साल के इसी महीने की कीमतों की तुलना में 17.28% अधिक हैं. यह काफी हद तक रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण आपूर्ति में व्यवधान के कारण है क्योंकि यूक्रेन सूरजमुखी तेल का एक बड़ा आपूर्तिकर्ता है. स्थिति तब और विकट हो गई जब दुनिया के सबसे बड़े पाम तेल आपूर्तिकर्ता इंडोनेशिया ने कच्चे पाम तेल के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया. पाम कच्चे तेल के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के इंडोनेशिया के फैसले ने भारत के कच्चे तेल के आयात का लगभग आधा हिस्सा संकट में डाल दिया. भारत खाद्य तेलों का दुनिया का सबसे बड़ा आयातक है और इंडोनेशिया, मलेशिया और थाईलैंड से आयातित पाम तेल देश के खाद्य तेल के आयात का बड़ा हिस्सा है. खुदरा बाजार में खाद्य तेलों की ऊंची कीमतों पर लगाम लगाने के लिए केंद्र सरकार ने व्यापारियों और प्रसंस्करणकर्ताओं पर अखिल भारतीय स्टॉक की सीमा लगा दी है लेकिन ऐसी स्थिति में आपूर्ति में सुधार एक चुनौती बनी हुई है.
फल-सब्जियां और मसाले: दूसरा जहां इस साल अप्रैल में सब्जियों की कीमतें 15.41% महंगी थीं, वहीं इस साल अप्रैल में मसाले अप्रैल 2021 की कीमतों की तुलना में 10.56 फीसदी महंगे हैं. फलों की कीमतें मामूली अधिक बनी हुई हैं क्योंकि अप्रैल 2022 में फलों की कीमतों की मुद्रास्फीति सिर्फ 4.99% थी. उच्च खाद्य मुद्रास्फीति सभी को प्रभावित करती है लेकिन यह उन लोगों को अधिक प्रभावित करती है जो पिरामिड के नीचे और ग्रामीण क्षेत्रों में हैं. ग्रामीण मुद्रास्फीति 12 साल के उच्च स्तर 8.4% पर है जबकि शहरी क्षेत्रों में मुद्रास्फीति अप्रैल 2022 में 18 महीने के उच्च स्तर 7.1% पर है.
ईंधन की कीमतें: इसी तरह ईंधन और उर्जा ने 10.8% पर दोहरे अंकों की मुद्रास्फीति की सूचना दी. उच्च ईंधन की कीमतें सामान्य मुद्रास्फीति में फ़ीड करती हैं क्योंकि सभी वस्तुओं की कीमतें बढ़ जाती हैं. नतीजतन, अप्रैल 2021 के दौरान उनकी कीमतों की तुलना में परिवहन और संचार सेवाएं अप्रैल में 10.91% महंगी थीं. मुद्रास्फीति की प्रकृति संरचनात्मक होती जा रही है. इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च जो कि फिच ग्रुप की रेटिंग एजेंसी है, कुछ समय से इशारा कर रही है कि स्वास्थ्य सेवाओं में मुद्रास्फीति संरचनात्मक हो रही है क्योंकि यह पिछले 16 महीनों से 6% से अधिक बनी हुई है.
सितंबर से पहले नहीं घटेगी महंगाई: वर्तमान प्रवृत्ति के आधार पर चालू वित्त वर्ष में औसत मुद्रास्फीति 7% के करीब रहने की संभावना है और सितंबर 2022 में चरम पर हो सकती है. सितंबर के बाद इसमें मामूली गिरावट आ सकती है. रिजर्व बैंक ने इस महीने की शुरुआत में ऊंची महंगाई पर काबू पाने के लिए रेपो रेट में 40 बेसिस प्वाइंट और कैश रिजर्व रेशियो में 50 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी की है. सिन्हा का कहना है कि मौद्रिक सख्ती जारी रहेगी और चालू वित्त वर्ष में रेपो दरों में 60-75 आधार अंक और सीआरआर में आधा प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है लेकिन यह डाटा पर निर्भर होगा.

You May Also Like