युद्ध: यूक्रेनी नौसेना ने रूसी जहाज को बनाया निशाना, रूस ने पूर्वी यूक्रेन पर किए कई हमले

रूस-यूक्रेन युद्ध के 79वें दिन रूसी सेना ने एक बार फिर पूर्वी यूक्रेन क्षेत्र में हमले बढ़ा दिए हैं। रूस ने चेर्निहीव पर हमला किया और स्कूलों को निशाना बनाया। इस बीच, काला सागर में यूक्रेनी नौसैनिक बलों ने एक हमले में रसद पहुंचाने वाले रूसी जहाज को क्षतिग्रस्त कर दिया। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा कि रूसी सेना ने शुक्रवार तड़के ये हमले तब शुरू किए जबकि वह रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात करने को तैयार हैं ताकि समझौता हो सके।
इस बीच, रूसी सेना ने दोनबास पर कब्जा जमाने के लिए मध्य व उत्तरी यूक्रेन पर भी हमले किए। वहीं, यूक्रेन ने उत्तर पूर्व में कुछ शहरों और गांवों को फिर से अपने कब्जे में ले लिया है। यही नहीं बल्कि यूक्रेनी नौसैनिकों ने दक्षिण-पश्चिमी ओडेसा क्षेत्र में काला सागर स्थित एक रूसी रसद जहाज को क्षतिग्रस्त कर दिया। यूक्रेनी सेना के प्रवक्ता सेरही ब्रेचुक ने कहा, हमारे नौसैनिक बलों ने जहाज में आग लगा दी। उन्होंने कहा, रूसी नौसेना ने स्नेक आइलैंड पर अपना पोत वसेवोलॉड बोब्रोव खो दिया है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पश्चिमी देशों पर जमकर हमला बोलते हुए कहा, यूक्रेन में रूस की कार्रवाई के बाद पश्चिमी देशों द्वारा मॉस्को पर लगाए प्रतिबंधों से वह खुद बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। आर्थिक मुद्दों पर एक बैठक में पुतिन ने कहा कि कई देश पहले से ही भूख के खतरों का सामना कर रहे हैं और यदि रूस के खिलाफ प्रतिबंध ऐसे ही जारी रहते हैं तो ईयू को भी ऐसे दुष्परिणाम भुगतने होंगे जिन्हें पलटना मुश्किल होगा।

रूस ने फिनलैंड को नाटो में शामिल होने को लेकर चेताया
फिनलैंड के नेता जहां नाटो में शामिल होने के पक्ष में सामने आए और स्वीडन ने भी कुछ दिनों में ऐसा करने की संभावना जताई वहीं रूसी राष्ट्रपति कार्यालय (क्रेमलिन) ने चेतावनी दी कि उसे जवाबी कार्रवाई के तौर पर ‘सैन्य-तकनीकी’ कदम उठाने के लिए विवश होना पड़ेगा। इसे रूस द्वारा फिनलैंड और स्वीडन को नाटो में शामिल होने की स्थिति में रूसी धमकी के तौर पर लिया जा रहा है। 

रूसी आक्रमण से निपटने के लिए यूक्रेन को 4022 करोड़ देगा ईयू
जी-7 देशों के राजनयिकों की बैठक में ईयू ने रूसी आक्रमण के मुकाबले के लिए यूक्रेन को और 4022 करोड़ रुपये की मदद देने की घोषणा की। विदेश नीति पर ईयू के उच्च प्रतिनिधि जोसेफ बोरेल ने कहा, कुछ देशों की गलतफहमी के बावजूद उन्हें अन्य देशों के भी जल्द ही रूसी तेल को प्रतिबंधित करने की उम्मीद है। ईयू की ओर से दी जा रही रकम से यूक्रेन की सेना भारी हथियार खरीदेगी।

You May Also Like