ग्वालियर में बुजुर्ग मजदूर को मुंह में कपड़ा ठूंसकर मार डाला

ग्वालियर में एक 60 साल के बुजुर्ग मजदूर को दबंगों ने मजदूरी मांगने पर मुंह में कपड़ा ठूंसकर इतना पीटा कि उसकी मौत हो गई। बुजुर्ग के बेटे ने भागकर अपनी जान बचाई। हत्या करने के बाद दबंगों ने शव को उसके टपरे (झोपड़े) के पास फेंका और चले गए। हत्या का जिन पर आरोप है वे गांव के दबंग हैं। उन्होंने मृतक मजदूर की तीन महीने से उसकी मजदूरी रोक रखी थी। घटना भितरवार के खड़ीचा गांव में हुई। परिजनों ने वृद्ध के शव को भितरवार थाने के सामने तपती सड़क पर रखकर हंगामा किया। हंगामे के बाद सोमवार को पुलिस ने तीन नामजद सहित पांच लोगों पर हत्या का मामला दर्ज कर लिया है।
भितरवार के खडीचा स्थित गांव सांकनी में लक्ष्मण सिंह(60) पुत्र देवू जाटव, गांव के ही दबंग महेन्द्र सिंह गुर्जर के यहां पर काम करता था। महेन्द्र सिंह, लक्ष्मण को उसकी मजदूरी समय पर नहीं दे रहा था। वह गालियां भी देता था। एक दिन पहले लक्ष्मण अपनी तीन माह की बकाया मजदूरी मांगने के लिए उसके पास आया था। इस पर महेंद्र का कहना था कि वह काम शुरू करे। उसके बाद वह मजदूरी के बारे में सोचेगा। बुजुर्ग ने आगे काम करने से मना कर दिया। इस पर दबंग खफा हो गए और वहां पर महेन्द्र सिंह गुर्जर, भोला गुर्जर, सत्येन्द्र गुर्जर व दो अन्य ने बुजुर्ग मजदूर की हत्या कर दी। मृतक के बेटे आदिराम ने बताया कि वह पिता को बुलाने के लिए महेन्द्र सिंह के घर पर पहुंचा तो वे उसके पिता के मुंह में कपड़ा ठूंस कर मारपीट कर रहा था, जबकि भोला, सत्येन्द्र तथा दो अन्य उसके पिता को दबोचे हुए थे। जैसे ही महेंद्र की नजर उस पर पड़ी वह मुझे पकड़ने के लिए दौड़ा तो मैंने भागकर जान बचाई। इसके कुछ देर बाद उसके पिता का शव उनके ही टपरे के पास पड़ा मिला है। पुलिस ने इस मामले में पहले मर्ग कायम किया था, पर इसके बाद सोमवार को पूरे दिन मजदूर के परिजन ने थाने के सामने शव रखकर हंगामा किया। इसमें एस-3 (सम्यक समाज संघ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष लाखन सिंह बौद्ध भी शामिल रहा। इस मामले में जांच एसडीओपी अभिनव बारंगे को सौंपी थी। एएसपी देहात जयराज कुबेर का कहना है कि पांच आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है। आरोपियों की तलाश में पुलिस टीम दबिश दे रही है।

You May Also Like