बैंक से लोन लेकर बना लिया सपनों का आशियाना, गृह प्रवेश के बाद प्रशासन का नोटिस मिला तो लगा झटका

कुछ समय पूर्व दो प्रॉपर्टी डीलर से 1 हजार स्क्वॉयर फीट जगह खरीदकर निजी कॉलेज के कर्मचारी ने अपने सपनों का आशियाना बना लिया। मकान बनाने के लिए बैंक से लोन भी लिया। गृह प्रवेश के बाद के बाद अचानक एक दिन जिला प्रशासन का नोटिस मिला। नोटिस में जगह सरकारी बताकर खाली करने के निर्देश थे। युवक ने तत्काल जमीन की जानकारी निकलवाई तो वह सरकारी निकली। मामला हुरावली स्थित अल्फा नगर की है।  पीड़ित सिरोल थाना पहुंचा और शिकायत की। पुलिस ने सरकारी जमीन किसान की बताकर बेचने वाले प्रॉपर्टी डीलर्स पर धोखाधड़ी की FIR दर्ज की है।
सिरोल थाना क्षेत्र के अल्फा नगर हुरावली निवासी प्रज्ञानंद सिसोदिया पुत्र बलवान सिंह सिसौदिया एक निजी कॉलेज में जॉब करते हैं। वर्ष 2018 में उनकी मुलाकात प्रॉपर्टी कारोबारी दशरथ पालिया व तहसीलदार पालिया से हुई। मुलाकात के बाद उनके बीच अच्छी बातचीत होने लगी। इसी बीच दशरथ और तहसीलदार ने उन्हें बताया कि उनकी नजर में कुछ जमीन है और अगर वह चाहे तो वह उसका सौंदा करा सकते हैं। उनकी बातों में आकर प्रज्ञानंद ने जमीन देखी और पसंद आने पर साढ़े पांच लाख रुपए में सौदा कर लिया। साथ ही रजिस्ट्री कराने के बाद उस पर बैंक से 12 लाख रुपए का लोन लेकर दो मंजिला मकान बना लिया।

नोटिस आया, निकली सरकारी जमीन
अभी सब कुछ ठीक चल रहा था। पर कुछ दिन पहले ही जिला प्रशासन की ओर से एक सरकारी नोटिस उनके घर पहुंचा। नोटिस में लिखा हुआ था कि जिस स्थान पर उन्होंने रजिस्ट्री कराई है वह सरकारी जमीन है। इस जमीन को जल्द खाली कर दें। जब प्रज्ञानंद ने जानकारी जुटाई तो पता चला कि जिस जगह की उसे रजिस्ट्री की गई है, वह सरकारी है। मामले का पता चलते ही वह थाने पहुंचा और मामले की शिकायत की। पुलिस ने उसकी शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है।
You May Also Like