"जन सारथी के जनक, हम सभी के प्रेरणा पुंज, योग शिरोमणि आदरणीय कैलाश वासी श्री दुर्गा सिंह तोमर सांसारिक जीवन में रहते हुए योग के शिखरतम बिंदु को छूने वाले विरले व्यक्तित्व में शुमार हैं । अपने परम पूज्य गुरु अनंत श्री चंद्र मोहन जी महाराज के दिव्य आत्म तेजांश से आशीर्वाद स्वरूप विभूषित विराट व्यक्तित्व को हमारा ये स्तंभ समर्पित हैं। हमारा अकाट्य विश्वास है, कि ये स्तंभ योगीराज दुर्गा सिंह जी के ईश्वरीय आदेशों से आलोकित अनुभूतियों के अलौकिक संस्मरणों से समस्त सांसारिक योग साधकों को उचित दिशा एवं गति प्रदान करेगा। इतना ही नहीं योग के गूढ़ रहस्यों से पर्दा उठाने वाले योग गुरूओं एवं योग विद्वानों के अभिमत इस स्तंभ का अभिन्न हिस्सा होंगे।"

Blogs

समाधि की परिमापी - योग के प्रचारकों का बहुत बड़ा अभाव

योगयोगेश्वर अनन्त श्री चन्द्रमोहनजी महाराजगतांक से आगे......बाजीगर ने राजा से विनम्र Readmore...

समाधि की परिमापी - योग के प्रचारकों का बहुत बड़ा अभाव

योगयोगेश्वर अनन्त श्री चन्द्रमोहनजी महाराजगतांक से आगे...... Readmore...

समाधि की परिमापी

योगयागेश्वर अनन्त श्री चन्द्रमोहनजी महाराजगतांक से आगे...सत्व पुरूषयों Readmore...

समाधि की परिमापी

योगयोगेश्वर अनन्त श्री चन्द्रमोहनजी महाराजयोग दर्शन के प्रारंभ में समाधि पाद के सूत्र संख्या 2 में भगवान पतंजलिदे Readmore...

  1. Newer
  2. Older